मराठी सूत्रसंचालन चाहिये ?हमारा "सूत्रसंचालन आणि भाषण" यह
Android Application डाउनलोड
करे .



[ Click Here to Download ]


Friday, September 14, 2018

गौरी पूजन व्रत- महत्त्व कथा व उद्यापन पूजा विधि हिंदी जाणकारी

गौरी व्रत सामग्री महत्त्व कथा व उद्यापन पूजा विधि ( Gauri vrat mahatv katha udyapan puja vidhi )
गौरी व्रत का महत्व (Gauri vrat mahatv) –




गौरी व्रत अविवाहित लड़कियों व कन्याओं के द्वारा रखा जाता है. इस व्रत में गौरी पार्वती की पूजा की जाती है. इस व्रत के रहने से लड़की की जल्दी शादी होती है, साथ ही उसे अच्छा जीवन साथी मिलता है. गौरी व्रत को मोराकत व्रत भी कहते है. कहते है इस व्रत में पार्वती की पूजा आराधना करने से लड़कियों को शिव जैसे भोले, पत्निव्रता पति मिलते है. हिन्दू मान्यता के अनुसार शिव सबसे अच्छे पति माने जाते है, हर लड़की इनके जैसा ही पति चाहती है.

गौरी व्रत कब आता है? (Gauri vrat Date 2017)


गौरी व्रत गुजरात में अषाढ़ (जुलाई-अगस्त) माह के शुक्ल पक्ष एकादशी से शुरू होता है, एवं 5 दिनों बाद पूर्णिमा को खत्म होता है. इस बार यानि 2017 में ये व्रत 4 जुलाई को शुरू होगा व 8 जुलाई को ख़त्म होगा. 5 दिन के इस व्रत में उपवास रखा जाता है, जिसमें नमक को पूरी तरह त्यागा जाता है.

गौरी व्रत पूजा विधि (Gauri vrat puja vidhi) –


यह व्रत रखने के 1 हफ्ते पहले से 7 अलग अलग बर्तन में ज्वार को मिट्टी में लगाते है. फिर रोज इसे पानी देते है. इसे माता पार्वती का प्रतीक मानकर इनकी पूजा की जाती है.
व्रत के पहले दिन सुबह जल्दी नहाकर इन 7 बर्तन की पूजा की जाती है. इस पर पानी, दूध, फूल चढ़ाया जाता है. दीपक जलाकर, पार्वती माता की आराधना की जाती है.
5 दिन ऐसा रोज करते है. आखिरी दिन रात भर जागकर जागरण करते है. भजन, कीर्तन, नाच गाना होता है.
व्रत में पूरा दिन कुछ नहीं खाते है, शाम को दिया बत्ती के बाद ही भोजन ग्रहण किया जाता है.
इस व्रत के दौरान नमक बिलकुल नहीं खाया जाता है. आटे की रोटी पूरी, घी, दूध से बना समान, मेवे, फल आदि खाया जाता है.
आखिरी दिन सुबह नहाकर, मंदिर जाते हैं, गाय की पूजा कर, उसे रोटी खिलाई जाती है. ज्वार के बर्तन की पूजा करे, और फिर इसे किसी, नदी, या घर में बड़े बर्तन में पानी रखकर सिरा दें.
इस दिन 11 लड़कियों को बुलाकर खाना खिलाएं. उन्हें यादगार के तौर पर कुछ उपहार दें.
यह व्रत 5 साल तक लगातार रखा जाता है, आप चाहें तो इसे 7 साल भी कर सकते है.

गौरी व्रत कथा (Gauri vrat katha)-


गौरी व्रत की वैसे कोई कथा नहीं है, लेकिन ये माना जाता है कि जिस तरह माता पार्वती ने कठिन तपस्या करके कई व्रत रहकर शिव को पाया था, वैसे ही लड़कियां कठिन जप तप करके शिव जैसा वर पाना चाहती है. हिन्दुओं को इस पर पूर्ण विश्वास है कि माता पार्वती की पूजा आराधना करने से उन्हें शिव जैसा ही वर मिलेगा.

गौरी व्रत उद्यापन विधि  (Gauri vrat udyapan vidhi) –


सबसे पहले चौकी पर विराजित सभी देवी देवताओं को, नैवेद व प्रसादी का भोग लगाये. जिसके उपरान्त, पुरोहितों को भोजन करा कर दक्षिणा दे. फिर सोलह सुहागन महिलाओं को, भोजन करा कर सुहाग की सामग्री दे. अंत मे पुरे परिवार के साथ भोजन कर व्रत की समाप्ति करे.

गौरी पार्वती का व्रत अविवाहिता के द्वारा 5 साल रखते है, इस दौरान उसकी शादी हो जाती है, तब भी 5 सालों तक इस व्रत को रखा जाता है. पांच साल हो जाने के बाद जयापार्वती का व्रत रखना जरुरी समझा जाता है ये विवाहिता सुखी जीवन के लिए रखती हैं. गौरी व्रत को बीच में नहीं छोड़ा जाता है, इसे 5 साल तक 5 दिन के लिए रहना ही पड़ता है.

यह अनुष्ठान भविष्य में एक अच्छा पति पाने के पवित्र इरादे से किया जाता है. पवित्र इरादे हमेशा खुशीयों से हमारे जीवन को भर देते है. इस व्रत से युवा लड़कियों के जीवन में नयी खुशियाँ आती है, उनमें आत्म विश्वास, अनुशासन व धैर्य बढ़ता है.

ज्येष्ठ गौरी पूजा विधि, कथा (Jyeshta Gauri puja vidhi Katha)


ज्येष्ठ गौरी पूजा तीन दिन का त्यौहार होता है, जो मुख्यतः महाराष्ट्र में मराठी समुदाय द्वारा मनाया जाता है. यह 10 दिनों तक चलने वाले गणेश महोत्सव के दौरान आता है. महाराष्ट्र के कई मराठी परिवार में गणेश चतुर्थी व्रत पूजा विधि विधान से करते है. महाराष्ट्र में गणेश उत्सव के समय वैसे ही बहुत धूम रहती है, पुरे भारत में महाराष्ट्र में सर्वाधिक गणेश प्रतिमा रखी जाती है, और लोग इसे बड़े तौर पर मनाते है. इसी बीच में तीन दिन का गौरी पूजा त्यौहार आता है, जिसे शादीशुदा औरतें मनाती है.

कब मनाई जाती है ज्येष्ठ गौरी पूजा ? (Jyeshta Gauri puja vidhi 2018 date) –


ज्येष्ठ गौरी पूजा हिन्दू कैलेंडर के अनुसार भाद्र महीने (अगस्त-सितम्बर) के शुक्ल पक्ष की छठी के दिन शुरू होता है, और अष्टमी के दिन समाप्त होता है. तीन दिन ज्येष्ठ गौरी पूजा का ये त्यौहार गौरी आह्वान से शुरू होता है, अगले दिन गौरी पूजन होती है, आखिरी दिन गौरी विसर्जन होता है.

ज्येष्ठ गौरी पूजा महत्त्व (Jyeshta Gauri puja significance) –


ज्येष्ठ गौरी पूजा माता पार्वती की स्पेशल पूजा होती है. उन्हें इस दौरान अपने घर में स्थापित करते है, और सुख, समृधि, शांति की प्रार्थना की जाती है. कहते है, गणेश चतुथी के दौरान गणेश जी घर में आते है, उनके छठवे दिन उनकी माता पार्वती भी पृथ्वी में सबके घर आती है. कई जगह पार्वती को गणेश जी की बहन का दर्जा दिया गया है, इसलिए कहते है, अपने भाई के साथ वो भी आती है.

ज्येष्ठ गौरी पूजा को कुछ जगह देवी महालक्ष्मी की पूजा करते है, तो कुछ जगह माता पार्वती की. माता गौरी को गोवरी भी कहते है. यह महाराष्ट्र में मुख्यत पुणे में होती है. कर्नाटक में गौरी पूजा गणेश चतुर्थी के एक दिन पहले होती है. पश्चिम बंगाल में माता लक्ष्मी, माता सरस्वती को गणेश जी की बहन माना जाता है, और ये तीनों माता दुर्गा के बच्चे माने जाते है.

ज्येष्ठ गौरी पूजा के बारे में विस्तार से जानकारी (Jyeshta Gauri puja) –


गौरी अवाहना या स्थापना (Gauri avahan) – ज्येष्ठ गौरी पूजा के पहले दिन माता गौरी को घर में विराजित किया जाता है. गोवरी को गणेश जी बहन के रूप में घर लाते है, कहते है उनकी दो बहनें थी. इसलिए गौरी की दो अलग तरह की मूर्ती घर लाते है और विराजित करते है. उनके पैरों के चिन्ह को घर में रंगोली से बनाया जाता है. घर की विवाहित औरतें, घर की सफाई करती है, जहाँ मूर्ती स्थापित करनी रहती है उस जगह को अच्छे से साफ़ किया जाता है. वहां हल्दी या आटे से चौक बनाया जाता है, फिर चौकी में प्रतिमा को रखा जाता है. कुछ लोग पत्थरों में माता गौरी का चित्र बनवाकर, उसकी पूजा करते है. पूजा वाले स्थान एवं मूर्ती को रंग बिरंगे कपड़ो से सजाया जाता है, तरह तरह के फूल से इसे सजाते है. कई तरह के फलों को प्रसाद के रूप में इनके सामने सजाया जाता है.

गौरी पूजा (Gauri Puja) – 

गौरी की प्रतिमा की स्पेशल पूजा की जाती है. शादीशुदा औरतें हल्दी एवं सिंदूर को सबसे पहले गौरी को लगाती है, फिर सभी औरतों को बांटा जाता है. इस पूजा में 16 नंबर को अच्छा माना जाता है, इसलिए 16 औरतों को बुलाया जाता है. 16 दिए पूजा के समय जलाये जाते है. इसमें औरतें 16 तरह के अलग अलग पकवान बनाती है, उसे प्रसाद के रूप में चढ़ाती है और फिर प्रसादम के रूप में उसे सभी को बांटती है.

गौरी विसर्जन (Gauri visarjan) – 

दो दिनों की पूजा आराधना के बाद, तीसरे दिन गौरी की प्रतिमा को पानी में विसर्जित कर दिया जाता है. सभी भक्तजन नाच, गाना करते है, और अगले साल जल्दी आने की मनोकामना मांगते है. माता गौरी को विसर्जित करते समय गौरी के 108 के नामों को मन में बोला जाता है जैसे–
ॐ त्रिपुरी नमः

ॐ विराजयी नमः

ॐ सरस्वत्यै नमः

ॐ दीक्ष्याई नमः

इस तरह गौरी के 108 नामों को मन में बोलते है.

ज्येष्ठ गौरी पूजा विधि (Jyeshta Gauri puja vidhi) –


16 अंक इस व्रत में मुख्य है, इसलिए इसे शोदाश उमा व्रत भी कहते है. कुछ लोग इसे महालक्ष्मी व्रत की तरह मनाते है.
इस व्रत की तैयारी पहले से शुरू हो जाती है, तीन दिन माता गौरी को घर में रखते है, इसलिए घर की अच्छे से साफ़ सफाई करते है.
गौरी अवाहना के दिन जोड़े में पार्वती की प्रतिमा को घर लाते है. ज्येष्ठ – कनिष्ठ, सखी – पार्वती आदि ऐसे जोड़े में माता गौरी की प्रतिमा आती है.
तेरडा के पौधे को माता गौरी की प्रतिमा के निकट रखा जाता है.
5 – 7 पत्थरों को भी इसके पास रखते है.
16 तरह के पकवान बनाकर भोग लगाते है, 16 दिए जलाये जाते है.
3 दिन ऐसी ही पूजा होती है, फिर विसर्जन होता है.
इस बीच में औरतें अपने घर में हल्दी, कुमकुम के लिए अपने घरों में औरतों को बुलाती है, और हल्दी- कुमकुम लगाकर, सुहाग को कोई चीज उपहार के तौर पर देती है.
कहते है, माता गौरी ने इस समय राक्षस का वध कर मानवजाति को बचाया था.
तीसरे दिन विसर्जन के लिए पास के नदी, तालाब में जाया जाता है. जाते समय ढोल, नगाड़े के साथ नाच गाना होता है. बहुत ही हर्षोल्लास भरा, भक्तिमय माहौल हो जाता है.

सौजन्य : https://www.deepawali.co.in/mangla-gauri-puja-vrat-samagri-mahatv-katha-mantra-udyapan-vidhi-in-hindi.html

No comments:

Post a Comment

हमारा "शिक्षक डायरी मित्र" हे
Android Application डाउनलोड
करे . महाराष्ट्र टिचर के लिए उपयोगी .



[ Click Here to Download ]

पतेती पारशी सण नवीन वर्ष मराठी,हिंदी इंग्रजी माहिती !

पतेती पारशी सण नवीन वर्ष मराठी,हिंदी इंग्रजी माहिती ! पतेती, हा पारशी बांधवांचा नववर्ष दिवस. त्यानिमित्ताने या अग्निपूजक शांतीप्रिय ख-...

Adbox